Khabar AajkalNewsPopular

सेना के पूर्वी कमान के मुख्यालय फोर्ट विलियम में एक संदिग्ध युवक गिरफ्तार

सेना के पूर्वी कमान के मुख्यालय फोर्ट विलियम में एक संदिग्ध युवक गिरफ्तार
– सेना का जवान बता भवन में प्रवेश करने की कर रहा था कोशिश
– मामले की सेना और पुलिस कर रही है गहन छानबीन 
अशोक झा, सिलीगुड़ी: कोलकाता में स्थित सेना के पूर्वी कमान के मुख्यालय फोर्ट विलियम में एक युवक को भेष बदलकर प्रवेश करने की कोशिश की, लेकिन फोर्ट विलियम में तैनात गार्डों ने पकड़ लिया। युवक का नाम पलाश बाग बताया गया है। वह बर्दवान कलना का रहने वाला है। पुलिस ने बताया कि युवक खुद को सेना का जवान बताकर अंदर जाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन द्वारपालों ने उसका फर्जी पहचान पत्र पकड़ लिया। फोर्ट विलियम में घुसने की कोशिश करने वाले युवक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। बता दें कि कोलकाता में फोर्ट विलियम भारतीय सेना का पूर्वी भारत मुख्यालय है रविवार को पलाश को फर्जी पहचान पत्र का इस्तेमाल करते हुए सेना कार्यालय के दक्षिणी गेट के सामने रोका गया। सेना की पूर्वी कमान के कमांडिंग ऑफिसर जेएस कोहली ने शिकायत दर्ज की।
फर्जी पहचान पत्र लेकर फोर्ट विलियम में घुसपैठ की कोशिश

जांच के बाद पुलिस को पता चला कि पलाश की उम्र 33 साल है। उनका घर कृष्णापुर गांव अस्तगरिया, कालना, पूर्वी बर्दवान है। पिता का नाम पंचू गोपाल बाग है। हालांकि पुलिस को अभी और जानकारी नहीं मिली है कि फोर्ट विलियम में प्रवेश के पीछे उसका उद्देश्य क्या था। पलाश के खिलाफ मैदान थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है। उसने फोर्ट विलियम में घुसने की कोशिश क्यों की, उसे फर्जी पहचान पत्र कैसे मिला। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि उसका फोर्ट विलियम में प्रवेश करने के पीछे उद्देश्य क्या था?

विक्टोरिया मेमोरियल के पास ड्रोन उड़ाते पकड़े गये थे दो बांग्लादेशी

बता दें कि कुछ दिन पहले फोर्ट विलियम के पास दो बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया था। इन पर बिना अनुमति के ड्रोन के माध्यम से तस्वीर लेने का आरोप लगा था। इनकी पहचान मोहम्मद सिफत और मोहम्मद जिल्लुर रहमानव के रूप में हुई थी। दोनों ही बांग्लादेश के राजशाही के पास रहने वाले थे. इन पर आरोप लगा था कि ये विक्टोरिया मेमोरियल के पास बिना किसी अनुमति के ड्रोन उड़ा रहे थे। उसके बाद हेस्टिंग्स थाने की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था। बता दें कि यह इलाका सेना का है और यहां पूर्वी भारत के सेना मुख्यालय से जुड़े कई कार्यालय हैं और यह इलाका काफी संवेदनशील और सुरक्षित माना जाता है। रिपोर्ट अशोक  झा

Related Articles

Back to top button