Khabar AajkalNewsPoliticsPopular

मालदा के गाजोल में नोटों की गड्डियां का क्या है राज

मालदा के गाजोल में नोटों की गड्डियां का क्या है राज
– क्या मछली व्यवसाय के पीछे चल रहा था कोई और धंधा
– सीआईडी की टीम कर रही पूरे मामले की जांच 
अशोक झा, सिलीगुड़ी: पश्चिम बंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाले में पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी के करीबी अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट से 52 करोड़ रुपये के नोट मिलने के बाद अब मालदा जिले के गाजोल में नोटों की गड्डियां 
मिली हैं। सीआईडी ​​ने मालदा के गाजोल में एक मछुआरे के घर पर छापा मारा। तलाशी में अब तक 1 करोड़ 60 लाख रुपये बरामद किए जा चुके हैं। पैसे गिनने के लिए मशीन लाई गई है। मालूम हो कि मछली कारोबार से जुड़े मछुआरे का नाम जयप्रकाश साहा है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि पुलिस सीआईडी ​​की पूरी मदद कर रही है।कोई अप्रिय स्थिति न बने इसके लिए विशेष सतर्कता बरती जा रही है।
स्थानीय सूत्रों के अनुसार जयप्रकाश नाम के व्यवसायी का मुख्य रूप से मछली का व्यवसाय है। वह विभिन्न जलाभूमि और तालाबों को पट्टे पर देकर मछली व्यवसाय करता है। हाल में गिरफ्तारी के दौरान उसका नाम सामने आया था।

अवैध लेनदेन में हुई गिरफ्तारी के बाद सीआईडी के मिले थे सुरागकुछ दिन पहले गंगारामपुर में एक कारोबारी को गिरफ्तार किया गया था। उन पर अवैध लेनदेन का भी आरोप लगाया गया था। जयप्रकाश उनसे परिचित था। वह व्यक्ति जयप्रकाश का रिश्तेदार है। आरोप है कि जयप्रकाश को सीमा पार से गौ तस्करी समेत कई तरह की तस्करी से पैसे मिलते थे। वह पैसा उसने अपने एक रिश्तेदार के पास रखा था। बता दें कि जिस घर से नोटों की गड्डियां बरामद की गई हैं।
 उसके सामने लोहे का छोटा गेट वह एक मंजिला मकान हैं। उस पर प्लास्टर नहीं था। दरवाजे और खिड़की के फ्रेम भी नहीं थे, लेकिन सीआईड़ी रेड में उस घर का मालिक के पास से करोड़ों रुपये मिले हैं। पड़ोसियों का कहना है कि उन्हें अंदाजा भी नहीं था कि इस जर्जर घर के अंदर इतने करोड़ रुपये रखे हुए थे।तस्करी से जुड़ा है मछली कारोबारी के तार, था सीआईडी के रडार पर
पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि इतना पैसा कहां से आया है ? क्या मछली व्यवसाय या किसी अन्य कारोबार से जुड़ा हुआ था? राज्य पुलिस के सीआईडी ​​अधिकारियों ने रविवार सुबह गजोल स्थित मछली व्यापारी जयप्रकाश साहा के घर पर छापा मारा। सीआईडी ​​सूत्रों के मुताबिक, व्यवसायी के रिश्तेदार दक्षिण दिनाजपुर निवासी ओम गुप्ता को हाल ही में ड्रग्स के एक मामले में गिरफ्तार किया गया था। सीआईडी ​​को शक है कि कारोबारी प्रतिबंधित कफ सिरप फेन्सिडिल की तस्करी से जुड़ा है। इस बारे में बीजेपी नेता शमिक भट्टाचार्य ने कहा, ‘अगर किसी के घर में बेहिसाब पैसा है तो जाहिर तौर पर वह इनकम टैक्स की चोरी कर रहा है। सीआईडी ​​जब तलाशी ले रही हो तो उसके पीछे कोई न कोई कारण जरूर रहा होगा। अगर पैसा ऐसे ही रखा जाए तो यह भ्रष्टाचार की निशानी है, लेकिन यह भी सच है कि हमारे देश में कई व्यापारी इस तरह से कच्चे पैसे का इस्तेमाल कर रहे हैं, उस पैसे का इस्तेमाल कई मामलों में किया जाता है, जिसे उसके घर से छुड़ाया गया है, उसे उत्तर देना होगा। रिपोर्ट अशोक झा

Related Articles

Back to top button