Khabar AajkalNewsPopularSiliguri

इस्कॉन में गूंजा राधे-राधे, राधाष्टमी पर की  गयी विशेष पूजा 

 इस्कॉन में गूंजा राधे-राधे, राधाष्टमी पर की  गयी विशेष पूजा 
-राधा रानी के नाम का जाप करता है उसके आगे आगे स्वयं भगवान विष्णु उसकी रक्षा के सुदर्शन चक्र धारण किये चलते हैं

अशोक झा,सिलीगुड़ी:कृष्ण जन्माष्टमी के 15 दिन बाद राधाष्टमी का शुभ योग बनता है। ऐसे में  यह पर्व 4 सितंबर 2022, दिन रविवार को धूम धाम से इस्कान मंदिर में मनाया गया। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार, स्वयं भगवान श्री विष्णुजी का कहना है कि वो भी व्यक्ति जाने- अनजाने जिस भी रूप में श्री राधा रानी के नाम का जाप करता है उसके आगे आगे स्वयं भगवान विष्णु उसकी रक्षा के सुदर्शन चक्र धारण किये चलते हैं। स्वयं भगवान शंकर जी अपना त्रिशूल लेकर चलते हैं उस व्यक्ति के दाहिने ओर देवराज इंद्र वज्र लेकर चलते हैं, एवं बाईं ओर वरुण देव छत्र लेकर चलते हैं। माना जाता है कि जो भी व्यक्ति मन में स्थाई प्रेम की कामना से राधी रानी के इन 32 नामों का जाप निरंतर करता है उसे राधा रानी का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है। राधा रानी उस व्यक्ति के जीवन में उत्तम प्रेम साथी भेजती हैं उस व्यक्ति का वैवाहिक जीवन भी सर्वश्रेष्ठ बीतता है।
राधा अष्टमी 2022 राधा रानी के चमत्कारी नाम 
1- मृदुल भाषिणी श्री राधा – राधा ।।
2- सौंदर्य राषिणी श्री राधा – राधा ।।
3- परम् पुनीता श्री राधा – राधा ।।
4- नित्य नवनीता श्री राधा – राधा ।

5- रास विलासिनी श्री राधा – राधा ।
6- दिव्य सुवासिनी श्री राधा – राधा ।
7- नवल किशोरी श्री राधा – राधा ।।
8- अति ही भोरी श्री राधा – राधा ।।

9- कंचनवर्णी श्री राधा – राधा ।।
10- नित्य सुखकरणी श्री राधा – राधा ।।
11- सुभग भामिनी श्री राधा – राधा ।
12- जगत स्वामिनी श्री राधा – राधा 

13- कृष्ण आनन्दिनी श्री राधा – राधा ।।
14- आनंद कन्दिनी श्री राधा – राधा 
15- प्रेम मूर्ति श्री राधा – राधा ।।
16- रस आपूर्ति श्री राधा – राधा ।।

17- नवल ब्रजेश्वरी श्री राधा – राधा ।
18- नित्य रासेश्वरी श्री राधा – राधा ।
19- कोमल अंगिनी श्री राधा – राधा 
20 – कृष्ण संगिनी श्री राधा – राधा ।

21- कृपा वर्षिणी श्री राधा – राधा ।।
22- परम् हर्षिणी श्री राधा – राधा ।।
23- सिंधु स्वरूपा श्री राधा – राधा ।।
24- परम् अनूपा श्री राधा – राधा ।।

25- परम् हितकारी श्री राधा – राधा ।
26- कृष्ण सुखकारी श्री राधा – राधा 
27- निकुंज स्वामिनी श्री राधा – राधा ।।
28- नवल भामिनी श्री राधा – राधा ।

29- रास रासेश्वरी श्री राधा – राधा ।।
30- स्वयं परमेश्वरी श्री राधा – राधा ।
31- सकल गुणीता श्री राधा – राधा ।
32- रसिकिनी पुनीता श्री राधा – राधा ।। रिपोर्ट अशोक झा

Related Articles

Back to top button