Khabar AajkalNewsPoliticsPopularState

राज्य सरकार ने पार्थ चटर्जी को सभी सरकारी पदों से हटाया

राज्य सरकार ने पार्थ चटर्जी को सभी सरकारी पदों से हटाया
– पार्टी के पदों से हटाने के लिए देर शाम होगी बैठक
अशोक झा ,सिलीगुड़ी: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पार्थ चटर्जी पर एक्शन लिया है। पश्चिम बंगाल सरकार ने कहा कि बंगाल SSC भर्ती घोटाले के आरोपी पार्थ चटर्जी 28 जुलाई से अपने विभागों के प्रभारी मंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों से मुक्त किया गया है। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं की पार्थ चटर्जी को निष्कासित करने की मांग के बीच पार्टी ने बृहस्पतिवार शाम एक बैठक बुलाई थी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे एवं तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी भी शामिल हुए।पार्थ चटर्जी फिलहाल उद्योग मंत्री थे। पार्थ चटर्जी को उद्योग मंत्री के पद से हटाये जाने के साथ-साथ बाकी पदों से भी हटाया गया है। पार्थ चटर्जी जब शिक्षा मंत्री थे उस दौरान हुए घोटाले के लिए उनको गिरफ्तार किया जा चुका है। पार्थ चटर्जी को ईडी ने शिक्षक भर्ती घोटाले में गिरफ्तार किया है। पार्थ की गिरफ्तारी अर्पिता मुखर्जी के पकड़े जाने के बाद हुई थी। अर्पिता के घर पर मारे गये छापे में 50 करोड़ के करीब रुपये कैश मिला था।अर्पिता मुखर्जी ने कोलकाता के टॉलीगंज और बेलघरिया में उनके दो आवासों से लगातार दो बार भारी मात्रा में नकदी और सोना बरामद होने के बाद गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने कबूल किया कि उन्हें मजबूर किया गया था। पश्चिम बंगाल के मंत्री पार्थ चटर्जी ने उनके घरों को अवैध नकदी रखने के लिए इस्तेमाल करने की अनुमति देने को कहा था। ईडी के सूत्रों के मुताबिक, मुखर्जी ने यह भी स्वीकार किया कि उनके आवास से बरामद नकदी को चटर्जी ने अपने एक अज्ञात सहयोगी की मदद से वहां रखा था।
ईडी के अधिकारी ने क्या कहा?

ईडी के एक अधिकारी ने कहा, अर्पिता ने कबूल किया है कि चटर्जी उसके टॉलीगंज और बेलघरिया दोनों आवासों में सप्ताह में एक या दो बार आते थे और उनके साथ एक अज्ञात व्यक्ति भी आया करता था। अधिकारी ने पुष्टि की, चटर्जी ने अर्पिता को अलमारी नहीं खोलने और उन कमरों में बार-बार आने से बचने का सख्त निर्देश दिया थे, जहां से नकदी बरामद की गई थी। रिपोर्ट अशोक झा

Related Articles

Back to top button