Khabar AajkalNewsPoliticsPopular

बंगाल के दो मंत्रियों-पार्थ चटर्जी और परेश अधिकारी के घरों पर ED की छापेमारी 

बंगाल के दो मंत्रियों-पार्थ चटर्जी और परेश अधिकारी के घरों पर ED की छापेमारी 
-इस दौरान बड़ी तादाद में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRFP) के कर्मी बाहर तैनात रहें
अशोक झा, सिलीगुड़ी: पश्चिम बंगाल से बड़ी खबर सामने आ रही है। राजधानी कोलकाता  में तृणमूल कांग्रेस  के वरिष्ठ नेता और राज्य के उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी के आवास पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) की टीम ने छापेमारी की है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) के अधिकारियों की एक टीम ने कथित शिक्षक भर्ती घोटाले की जांच के सिलसिले में शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के दो मंत्रियों-पार्थ चटर्जी और परेश अधिकारी के घरों पर छापेमारी की। एजेंसी के एक सूत्र ने यह जानकारी दी है। सूत्र ने कहा कि ईडी के कम से कम सात से आठ अधिकारी सुबह लगभग साढ़े आठ बजे चटर्जी के आवास नकतला पहुंचे और पूर्वाह्न 11 बजे तक छापेमारी की। इस दौरान बड़ी तादाद में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRFP) के कर्मी बाहर तैनात रहें।
सीबीआई कर रही मामले की जांच

सूत्र के मुताबिक, अधिकारियों ने शहर के जादवपुर इलाके में स्थित पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष माणिक भट्टाचार्य के आवास पर भी छापेमारी की गई है।केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग की सिफारिशों पर सरकार द्वारा प्रायोजित व सहायता प्राप्त स्कूलों में समूह ‘सी’ और ‘डी’ के कर्मचारियों व शिक्षकों की भर्ती में हुई कथित अनियमितताओं की जांच कर रहा है। अभी उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री पद पर काबिज चटर्जी उस समय शिक्षा मंत्री थे, जब कथित घोटाला हुआ था। सीबीआई दो बार उनसे पूछताछ कर चुकी है. पहली बार पूछताछ 25 अप्रैल, जबकि दूसरी बार 18 मई को की गई थी. पश्चिम बंगाल के शिक्षा राज्य मंत्री अधिकारी से भी सीबीआई पूछताछ कर चुकी है। इसके अलावा उनकी बेटी स्कूल शिक्षक की अपनी नौकरी गंवा चुकी हैं।

मंत्री का जवाब

वहीं इस रेड को लेकर अधिकारियों ने पत्रकारों से कहा कि वह फोन पर अपने परिवार से बात नहीं कर पा रहे हैं। वहीं इस कार्रवाई को लेकर ममता बनर्जी सरकार के मंत्री ने कहा, ‘उन्होंने आज हमारे घर पहुंचने की योजना के बारे में हमें नहीं बताया था। मैं 21 जुलाई को हुई तृणमूल कांग्रेस की शहीद दिवस रैली के बाद कोलकाता में ही हूं। अगर मैं वहां होता तो उन्हें मूड़ी खिलाता। रिपोर्ट अशोक झा

Related Articles

Back to top button