Khabar AajkalNewsPopular

मोतिहारी के ढाका से गिरफ्तार मौलाना मुफ्ती असगर अली

मोतिहारी के ढाका से गिरफ्तार मौलाना मुफ्ती असगर अली 
-जिसका तार बांग्लादेश के आतंकी संगठन जेएमबी से जुड़ा
-मरगूब अहमद दानिश  ने  कबूला पाकिस्तान में बैठे फैजान से कोड वर्ड में बात करता था
अशोक झा,  सिलीगुड़ी:  पटना टेरर मॉड्यूल में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं। ताजा मामला मोतिहारी के ढाका से गिरफ्तार मौलाना मुफ्ती असगर अली का है, जिसका तार बांग्लादेश के आतंकी संगठन जेएमबी से जुड़ा हुआ पाया गया है।
पूर्वी चंपारण इलाके में छापेमारी के दौरान हुआ गिरफ्तार 
एनआईए के एक प्रवक्ता ने बताया, असगर को मंगलवार को बिहार के पूर्वी चंपारण इलाके में छापेमारी के दौरान गिरफ्तार किया गया। प्रवक्ता ने बताया कि मामला, प्रतिबंधित संगठन जेएमबी के छह सक्रिय कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी से संबंधित हैं, जिसमें मध्यप्रदेश के भोपाल के ऐशबाग से बांग्लादेश के तीन अवैध अप्रवासी शामिल हैं, जो जेएमबी की योजनाओं या विचारधारा के प्रचार-प्रसार में शामिल पाए गए थे और भारत के खिलाफ जिहाद को आगे आगे बढ़ाने के लिए युवाओं को प्रेरित कर रहे थे। 

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जिहाद का प्रचार करने में शामिल था आरोपी 
आतंक विरोधी जांच एजेंसी ने कहा कि मामला शुरू में 14 मार्च को भोपाल पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया था और फिर एनआईए ने 5 अप्रैल को मामला दर्ज किया था। असगर एक हाई लेवल का कट्टरपंथी है जो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर विभिन्न समूहों में ऑनलाइन नफरत और आपत्तिजनक सामग्री पोस्ट करके जिहाद का प्रचार करने में शामिल है। 
प्रवक्ता ने कहा, “वह पहले गिरफ्तार किए गए आरोपी व्यक्तियों का करीबी सहयोगी है और भारत व बांग्लादेश में अन्य सहयोगियों के साथ गुप्त रूप से संवाद करने के लिए एन्क्रिप्टेड एप्लिकेशन का उपयोग करते पाया गया। 
सामने आया पाकिस्तानी कनेक्शन
वहीं दूसरी ओर फुलवारी शरीफ टेरर मॉड्यूल मामले  में बड़ा खुलासा हुआ है। फुलवारी शरीफ से गिरफ्तार मरगूब अहमद दानिश  ने पूछताछ में स्वीकार किया है कि वह कट्टरपंथियों के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ा हुआ था और पाकिस्तान में बैठे फैजान से कोड वर्ड में बात करता था। वह एक दिन में पाकिस्तान से अलग-अलग नंबरों पर 3-4 बार व्हाट्सएप कॉल पर बात करता था। उसने बताया कि भारत को मुस्लिम राष्ट्र बनाने की हमारी योजना थी। इसी पर काम चल रहा था। भारत में 2023 में सीधा जिहाद करने को लेकर पूछने पर उसने बताया कि गजवा ए हिंद व्हाट्सएप ग्रुप में सीधा जिहाद 2023 में करने की बात पाकिस्तान में बैठे फैजान के इशारे पर ही लिखा था। उस ग्रुप में भारत के कुछ युवा मुस्लिम जुड़े हुए थे और फैजान के इशारे पर उन लोगों को लगातार उकसाता था। वह सोशल मीडिया के जरिए कई इस्लामिक देशों के लोगों से जुड़ा हुआ था। फुलवारी शरीफ मामले में अभी पटना पुलिस, एनआईए और आईबी जांच कर रही है। बता दें कि मरगूब को दोबारा 48 घंटे के लिए रिमांड पर लिया गया है। पटना पुलिस, एनआईए और आईबी उससे पूछताछ कर रही है. वह पाकिस्तान, बांग्लादेश और कश्मीर के भी आतंकी संगठनों से जुड़ा है। उसके इंटरनेशनल कनेक्शन को खंगाला जा रहा है।
अब तक का खुलासा

मरगूब अहमद दानिश की गिरफ्तारी के बाद जांच में यह बात सामने आई है कि वह गजवा ए हिंद नाम से व्हाट्सएप ग्रुप से भी जुड़ा है। पाकिस्तान में बैठा फैजान इस ग्रुप का एडमिन है। मरगूब इस ग्रुप में 2023 में सीधा जिहाद करने की अपील कर रहा था। वह लोकल और विदेश में बैठे लोगों की मदद से देश विरोधी कार्यों को अंजाम दे रहा था। पुलिस ने गिरफ्तारी के समय दावा किया था कि वह विदेश में भी कई सालों तक रहा है। वहीं, उसके परिजनों का कहना है कि यह कभी भी विदेश नहीं गया है और न इसके पास पासपोर्ट था। परिजनों ने पटना एम्स की रिपोर्ट दिखाई थी और कहा था कि वह मानसिक रूप से बीमार है। रिपोर्ट अशोक झा

Related Articles

Back to top button