CrimeKhabar AajkalNewsPopular

अमृतसर के पास एनकाउंटर में मूसेवाला मर्डर में शामिल दो आरोपियों को मार गिराया

अमृतसर के पास एनकाउंटर में मूसेवाला मर्डर में शामिल दो आरोपियों को मार गिराया
-जगरूप रूपा और मन्नू कुसा (मनप्रीत सिंह) नाम के ये दोनों शूटर अटारी के रास्ते पाकिस्तान भागने की फिराक में थे
अशोक झा, सिलीगुड़ी: सिंगर सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस की जांच में लगी पंजाब पुलिस को आज बड़ी कामयाबी मिली। अमृतसर के पास एनकाउंटर में मूसेवाला मर्डर में शामिल दो आरोपियों को मार गिराया गया। जगरूप रूपा और मन्नू कुसा (मनप्रीत सिंह) नाम के ये दोनों शूटर अटारी के रास्ते पाकिस्तान भागने की फिराक में थे। इस बात की भनक लगते ही थोड़ी देर बाद एनकाउंटर में बदल गई। 4 घंटे तक चले इस एनकाउंटर में पुलिस ने अटारी के एक गांव स्थित घर में छिपे हुए सभी 4 गैंगस्टरों को मार गिराया है। जिसमें से दो गैंगस्टर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला  हत्याकांड में शामिल थे।  पंजाब पुलिस ने इन्हीं दो गैंगस्टर को पकड़ने के लिए दल बल के साथ दबिश दी थी। लेकिन गैंगस्टर की तरफ से गोलीबारी शुरू करने के बाद यह दबिश एनकाउंट में बदल गई. आईए बुधवार को पंजाब के अटारी में हुए इस एनकाउंटर के बारे में सभी बातें 10 बड़े अपडेटस के माध्यम से जानते हैं। पंजाब पुलिस सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल जगरूप और मनप्रीत को लेकर मिली लीड के बाद बुधवार दोपहर काे अटारी स्थित होशियार नगर गांव पहुंची थी. पुलिस को इन दोनों के वहां होने के जानकारी मोहाली में सोना तस्करी में पकड़े एक स्मगलर से मिली थी. जानकारी के मुताबिक स्मगलर मनप्रीत के साथ काम करता था। सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल शूटर्स के बारे में मिली लीड के बाद पंजाब पुलिस ने अपनी तैयारी के साथ होशियार पुर गांव में धावा बोला था। जिसके तहत शूटर्स को किसी कीमत पर पकड़ने के लिए पंजाब पुलिस ने मौके पर 600 से अधिक जवान और 60 से ज्यादा गाड़ियों की तैनाती की थी। पंजाब पुलिस को सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल शूटर्स के जिस जगह छिपे होने की जानकारी मिली थी. वह अटारी अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास स्थित है। जिसकी दूरी भारत-पाकिस्तान सीमा से करीब 10 किमी है। ऐसे में पुलिस ने एहतियातन अतिरिक्त सतर्कता बरत रही थी। पंजाब पुलिस ने मौके पर पहुंचते ही संदिग्ध घर को चारों ओर से घेर लिया। शुरुआत में पुलिस को इनपुट था कि संदिग्ध घर में 6 से 7 गैंगस्टर छिपे हो सकते हैं। ऐसे में पुलिस ने आम नागरिकों की सुरक्षा के लिए स्थानीय गुरुद्वारे से अनाउंसमेंट कर लोगों को घर के अंदर रहने को कहा गया है। पुलिस ने संदिग्ध घर की घेराबंदी करने के साथ ही छिपे हुए गैंगस्टरों को सरेंडर करने को कहा. लेकिन, गैंगस्टरों ने पुलिस बलपर गोलियां चलाना शुरू कर दिया। जिसके जवाब में पंजाब पुलिस के जवानों ने भी गोलियां चलाना शुरू कर दिया, और दोनाे ओर से कई राउंड फायर किए गए। गैंगस्टर एक किलेनुमा घर में छिपे हुए थे, और गैंगस्टरों के पास एके 47 जैसे आधुनिक हथियार थे। जिसके माध्यम से वह पुलिस पर फायरिंग कर रहे थे. हालांकि पुलिस भी एके 47 जैसे हथियारों से जवाबी फायरिंग कर रही थी। तो वहीं घर के पास ऊंची चरी का खेत होने के कारण पुलिस ने एहतियातन सर्तकर्ता बरती हुई थी। घर के अंदर छिपे गैंगस्टर्सों में से एक मनप्रीत ने ही मूसेवाला पर एके 47 से हमला किया था. बताया जाता है कि वह हथियारों का बड़ा शौकीन है. पुलिस इस मामले में अधिक पूछताछ के लिए मनप्रीत को जिंदा पकड़ने पर जोर देती दिखी। दाेनों तरफ से लगभग 3 घंटे तक चली गोलियों के बाद पुलिस को पहली सफलता मिली. जिसमें पुलिस ने एनकांउटर में गैंगस्टर जगरूप रूपा को मार गिराया. हालांकि गैंगस्टर की गोली से पुलिस के तीन जवान भी घायल हो गए। वहीं एनकांउटर के दौरान एक टीवी कैमरापर्सन भी गोली लगने से घायल हो गए। पुलिस ने बाद में अन्य तीनों गैंगस्टर्स को भी एनकाउंटर में मार गिराया। पंजाब पुलिस एडीजीपी पंजाब प्रमोद बान ने कहा कि मूसे वाला हत्याकांड का आरोपी गैंगस्टर मनप्रीत सिंह उर्फ मन्नू व जगरूप उर्फ रूपा आज मुठभेड़ में मारा गया। पुलिस ने उन्हें आत्मसमर्पण करने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने पुलिस पर गोलियां चलाना जारी रखा। उनसे एक एके47 रायफल, एक पिस्टल और एक बैग बरामद हुआ है। फॉरेंसिक टीम मौके पर मौजूद है। एनकांउटर में मूसेवाला हत्याकांड में शामिल जिन दो गैंगस्टर्स को पुलिस ने ढ़ेर किया है। उनका संबंध जग्गू भगनपुरिया गैंग से बताया जा रहा है। मूसेवाला हत्याकांड के लिए भगनपुरिया ने इन शूटर्स को लॉरेंस बिश्नोई को मुहैया कराया था। ये दोनों पिछले 52 दिनों से पुलिस को चकमा दे रहे थे। रिपोर्ट अशोक झा

Related Articles

Back to top button