Khabar AajkalNewsPoliticsPopularState

राजू बिष्ट : मुख्यमंत्री जो कहती है वह करती नहीं -दार्जिलिंग को स्विट्जरलैंड नहीं बना पाई अब एक नया शहर बनाएगी

राजू बिष्ट : मुख्यमंत्री जो कहती है वह करती नहीं
-दार्जिलिंग को स्विट्जरलैंड नहीं बना पाई अब एक नया शहर बनाएगी
अशोक झा, सिलीगुड़ी: दार्जिलिंग में कहा  मुख्यमंत्री द्वारा अपने दौरे के दौरान दार्जिलिंग में एक और शहर स्थापित करने की घोषणा पर प्रहार करते हुए दार्जिलिंग के लोकप्रिय सांसद तथा भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव राजू बिष्ट ने कहा कि  ममता जो कहती है वह करती नहीं है। इसका ताजा उदाहरण मुख्यमंत्री के पूर्व किए गए घोषणा को लें। मुख्यमंत्री बनर्जी दार्जिलिंग को सफलतापूर्वक स्विट्जरलैंड और कोलकाता को लंदन में परिवर्तित करना चाहती थी पर अब रजनी को एक नया शहर बनाने की घोषणा कर रही है। बिष्ट ने कहा कि वह सांसद के साथ एक कुशल बिजनेसमैन भी रहे हैं ममता बनर्जी के दिए गए बयान के बाद यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि बंगाल की तृणमूल सरकार बौद्धिक रूप से दिवालिया हो गई है। सांसद ने कहा कि दार्जिलिंग समेत इस क्षेत्र को कैसे विकसित किया जाए, इस बारे में मुख्यमंत्री के पास कोई रोड मैप नहीं है। मुख्यमंत्री बनर्जी पिछले 10 वर्षों में डाइजेनिक पर्वतीय क्षेत्र  7000 करोड़ रुपये देने की बात कह रही है लेकिन वह पैसा कभी पहाड़ पर आया ही नहीं। जीटीए के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ना भाजपा समेत अन्य संगठनों का मूल यही कारण था । अब तक जीटीए का ऑडिट राज्यपाल के कहने के बावजूद नहीं हो पाया है जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो सके। सांसद ने दावा किया कि राज्य सरकार जीटीए के द्वारा एक भी परियोजना का नाम बताएं । ममता सरकार पर हमला बोलते हुए राजू बिष्ट ने कहा कि इस सरकार का दो ही काम बचा है पहला राजनीतिक विरोधियों को धमकाना, गिरफ्तार करना, यातना देना और हत्या करना और दूसरा  केंद्र सरकार की परियोजनाओं को पश्चिम बंगाल सरकार की परियोजनाओं के रूप में प्रचारित करता। उन्होंने कहा कि हर घर नल माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट जिसे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भुनाने में लगी है । उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कुछ साल पहले दार्जिलिंग नगरपालिका को सभी घरों में पीने के पानी की व्यवस्था के लिए 204 करोड़ रुपये प्रदान करने के बावजूद सर जमी पर नहीं उतारा गया सका।  उत्तर बंगाल में बागडोगरा हवाई अड्डे और अन्य हवाई अड्डों का नवीनीकरण करने की बात कर रही हैं। जो अपने आप में उनका बयान मजाक बन जाएगा ।  भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को बागडोगरा हवाई अड्डे के विस्तार हेतु आवश्यक भूमि के लिए 25 करोड़ रुपये का भुगतान किया।क्योंकि राज्य सरकार ने जमीन देने से इनकार कर दिया था। बिष्ट ने बताया कि उनके लगातार अथक प्रयास के कारण केंद्र सरकार बागडोगरा हवाई अड्डे के नवीनीकरण के लिए आवश्यक 100 प्रतिशत धनराशि1300 करोड़ रुपये प्रदान करने के लिए सहमत हुई है। सांसद ने कहा कि मुख्यमंत्री चाय बागान श्रमिकों के वेतन में वृद्धि का दावा कर रही हैं। जबकि सच्चाई यह है कि कि उनकी सरकार ने आज तक चाय मकान और सिनकोना बागानों में न्यूनतम मजदूरी अधिनियम को लागू करने से ही इनकार कर दिया है। पहाड़ हो या तराई पब्लिक उनके हर चाल को समझती है जो समय आने पर इसका जवाब देगी। रिपोर्ट अशोक झा

Related Articles

Back to top button