Khabar Aajkal Siliguri

भारत – नेपाल के बॉर्डर को खोलने की मांग को लेकर पानीटंकी व्यवसाय समिति की ओर से किया गया विरोध प्रदर्शन!

भारत – नेपाल के बॉर्डर को खोलने की मांग को लेकर पानीटंकी व्यवसाय समिति की ओर से किया गया विरोध प्रदर्शन!

पानीटंकी व्यवसाय समिति की ओर से भारत -नेपाल के काकरभिट्ठा पूल को सामान्य करने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया।

इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने नजदीकी प्रशासन को जमकर कोसा । प्रदर्शनकारियों ने कहा पानीटंकी भारत-नेपाल की सीमा से सटा हुआ है।

नेपाली नागरिक भी हाट बाजार करने भारतीय इलाकों में आते हैं तो वहीं भारत क्षेत्रों में रहने वाले लाखों लोग रोजी रोटी के लिए नेपाल पर निर्भर है ।लेकिन कोरोना कि वजह से सीमा सील हुए करीब 18 महीने हो गए हैं। इसके बाद भी अभी तक नहीं खुली है । जिससे ना सिर्फ रोजी रोटी बल्कि रिश्तों में भी दूरियां बढ़ी है।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि ,काकरभिट्ठा पूल जबतक नहीं खुलेगी तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा। इस संबंध में पानीटंकी व्यवसाय समिति के सचिव दीपक चक्रवर्ती ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि जब नेपाल सरकार ने अपना सीमा खोल दिया है तो भारत सरकार को भी भारत -नेपाल सीमा के काकरभिट्ठा पूल खोल देना चाहिए ताकि अपने रिश्तेदारों से खुल कर मिल सके और रोजगार के लिए भी आवागमन हो सके। लेकिन राज्य प्रशासन द्वारा किसी तरह की कोई सूचना बॉर्डर खुलने को लेकर नहीं दी जा रही है । जिससे परेशानी और बढ़ रही है ।

उन्होंने आगे कहा कि , भारत -नेपाल सीमा बंद हुए इतने दिन हो गए क्या भारत सरकार कुछ सरकारी गाइडलाइंस जारी करके बॉर्डर को सामान्य रूप से नहीं की जा सकती है ?

जबकि भारत -नेपाल सीमा के सभी बॉर्डर खुल गए हैं। इसके बाद भी काकरभिट्ठा पूल नहीं खोला गया है । जिस वजह से सीमावर्ती इलाकों के लोगों की स्थिति बेहद खराब हो चुकी है। सीमावर्ती क्षेत्रों के लोगों का भारत व नेपाल से ही रोजी रोटी चलता है । उन्होंने कहा 18 महीनों से यहां सामान्य की तरह आवाजाही नहीं होने से पानीटंकी बाजार के 1200 दुकानदारों पर पूरी तरह से प्रभाव पड़ा है। उन्होंने कहा दुर्गा पूजा नजदीक आ गई है अगर बॉर्डर खुल जाएं तो इन सब दुकानदारों का थोड़ी बहुत स्तिथि ठीक हो जायेगी।

उन्होंने कहा काकरभिट्ठा बॉर्डर को सामान्य करने की मांग को लेकर 07 . 09 .2021 को दार्जिलिंग जिले के डीएम एस पन्नाबल्लम के नाम से खोरीबाड़ी बीडीओ निरंजन बर्मन को को ज्ञापन सौंपा गया था लेकिन अबतक प्रशासन की ओर से न तो कोई आदेश आया और न ही किसी प्रकार की सूचना मिली।

उन्होंने कहा नेपाल सरकार ने भारत -सीमा को खोलने का निर्णय ले लिया है और नेपाल कैबिनेट की बैठक में इस निर्णय पर मुहर भी लग गयी है। बावजूद प्रशासन द्वारा बॉर्डर को लेकर कोई पहल नहीं की जा रही है।

News Co-Ordinator and Advisor, Khabar Aajkal Siliguri

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *