Khabar Aajkal Siliguri

काबुल:- तालिबान के द्वारा जारी है मासूम लोगो पर अत्याचार, एक महिला अफसर की निकाली गई आंखें।

काबुल:- तालिबान के द्वारा जारी है मासूम लोगो पर अत्याचार, एक महिला अफसर की निकाली गई आंखें।

आपको बता दे के यू तो,तालिबान खुद को बदला हुआ तालिबान कहता है और महिलाओं को शरिया के दायरे में आजादी देने की बातें कहता है।
इसी के साथ तालिबान ने दूसरी प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी कहा कि अफगानिस्तान की नई सरकार में सभी की भागीदारी होगी और तालिबान लड़ाकों को औरतों से बात करने की ट्रेनिंग दी जाएगी।

लेकिन, बता दे कि ये महिलाओं के प्रति तालिबान की वो बातें हैं जो वो दुनिया को दिखाने के लिए कर रहा है, जबकि सच्चाई क्या है, भारत आई अफगानिस्तान की लेडी अफसर ने इसका खुलासा किया है। तालिबान ने महिला अफसर की आंखें तक निकाल लीं।

तालिबान की क्रूरता की कई कहानियां आपने सुनी होंगी, लेकिन एक लेडी पुलिस अफसर खातिरा हाशमी पर तालिबान का जुल्म कहर बनकर टूटा।
एक ऐसा कहर जिससे उस महिला की पूरी जिंदगी अंधेरे में डूब गई और वह अब कभी भी उजाले को नहीं देख पाएगी। खातिरा हाशमी अफगानिस्तान के गजनी प्रांत के पुलिस विभाग में महिला अफसर थीं, पुलिस में भर्ती होना खातिरा के लिए किसी सपने के सचे होने से कम नहीं था, क्योंकि पुलिस में भर्ती होने का इरादा वो बहुत पहले ही ठान चुकी थीं।

हालाकी, खातिरा जानती थीं की महिलाओं का काम करना तालिबान को नागवार गुजरेगा फिर भी पुलिस में जाने के अपने फैसले से वो पीछे नहीं हटीं।

तालिबान नाम का जिन खातिरा के कंधे पर मुसीबत की तरह लदा हुआ था और वो जानती थीं कि तालिबानियों को इस बात का पता चल ही जाएगा कि वो घर से बाहर काम पर जाती हैं। आखिरकार एक दिन तालिबानियों को फोन आया, भले ही उस समय वह तालिबानियों से सच छिपाने में कामयाब रहीं, लेकिन ये कोशिश ज्यादा दिन टिक नहीं सकी और एक दिन तालिबानी खातिरा के घर तक पहुंच गए।

तालिबान की हैवानियत खातिरा के सपनों को पूरी से रौंद दिया और आज खातिरा सिर्फ एक जिंदा लाश बनकर रह गई हैं।

News Co-Ordinator and Advisor, Khabar Aajkal Siliguri

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *