Khabar Aajkal Siliguri

उत्तर प्रदेश में बरामद हथियार कारखाने का कनेक्शन बिहार और बंगाल से !

उत्तर प्रदेश में बरामद हथियार कारखाने का कनेक्शन बिहार और बंगाल से
सिलीगुड़ी: उत्तर प्रदेश के मऊ जिले अवैध शस्त्र निर्माण एवं तस्करी का गोरखधंधा लगभग तीन साल से चल रहा था। एसटीएफ गोरखपुर, एसटीएफ बिहार एवं मऊ पुलिस टीम द्वारा संयुक्त रुप से की गई कार्रवाई एवं गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ के दौरान टीम को काफी अहम सुराग हाथ लगे हैं। जांच में अवैध शस्त्र निर्माण एवं तस्करों से जुड़े तार बिहार से लेकर कोलकत्ता तक मिले हैं। साथ ही साथ प्रति असलहे की बिक्री 25 से 30 हजार रुपए में तस्करों द्वारा किया जाता था।मऊ के दक्षिणटोला इलाके में एक मकान पर छापा मारकर अवैध रूप से असलहा बनाने की फैक्ट्री का भण्डाफोड़ किया। मौके से बड़ी संख्या में निर्मित एवं अर्धनिर्मित असलहा एवं उनके बनाने के सामान व उपकरण बरामद किये। उन्होंने बताया कि इस मामले पुलिस ने दो महिला समेत नौ लोगों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार आरोपियों में मुंगेर बिहार निवासी तनवीर आलम, भागलपुर बिहार निवासी मो. रिजवान अंसारी, मुंगेर बिहार निवासी मो. रिजाउल हक , मो. खालिद , मो. परवेज आलम, रूबीना अंसारी, शबाना खातून, शबनम बानो और मऊ निवासी लियाकत अली को गिरफ्तार किया। पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि अवैध असलहा निर्माण एवं तस्करी के मामले में गिरफ्तार अभियुक्तों से पुलिस टीम द्वारा कड़ी पूछताछ में काफी अहम सुराग हाथ लगे हैं। पुलिस टीम द्वारा गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ में पता चला कि तस्कर तनवीर व तबरेज आपस में सगे भाई है। साथ ही साथ सगी दो बहनो से एक ही परिवार मे विवाहित है। जो मूल रूप से मुंगेर बिहार के रहने वाले है। साथ ही साथ वर्तमान समय मे मऊ शहर के मुहल्ला रघुनाथपुरा व प्यारेपुरा में अपना निजी मकान निर्माण करके एक साथ रहते थे। गिरफ्तार अभियुक्तों ने बताया कि अवैध शस्त्र निर्माण के लिए कच्चा माल कोलकाता से ट्रांसपोर्ट के माध्यम से तथा शालीमार एक्सप्रेस ट्रेन से लाते थे। अभियुक्त तनवीर द्वारा स्वयं तथा परवेज के साथ मिलकर तथा तबरेज के घर पर अभियुक्तगण रिजवान व खालिद, लियाकत द्वारा अवैध शस्त्र बनाने की मशीने लगाकर अवैध शस्त्र व उसके पार्टस निर्माण करने का काम किया जाता था। जबकि अभियुक्त रिजाउलहक निवासी मुंगेर उपरोक्त द्वारा 20-20 का पैकेट बनाकर प्रति अद्र्धनिर्मित शस्त्र का पैतीस सौ रूपये प्रति शस्त्र की दर से भुगतान कर मुंगेर ले जाकर सोनू उर्फ सज्जाद निवासी मुंगेर व अन्य को पैसठ सौ रुपए प्रति शस्त्र की दर से सप्लाई करते थे। जो अन्य अभियुक्तों के सहयोग से अवैध शस्त्रों पिस्टल व तमंचे को 25 से 30 हजार रुपए में बिक्री किया जाता था। बताते चलें कि अभियुक्तगण तनवीर, तबरेज, रियाजुल, खालिद, रिजवान, परवेज व उनकी गिरफ्तारशुदा महिलाएं सभी मुंगेर बिहार के रहने वाले है। साथ ही साथ कुछ वर्षों से मऊ शहर मे रहकर अवैध शस्त्रो का कारोबार संगठित गिरोह के रूप में कर रहे थे। पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि अवैध शस्त्र निर्माण एवं तस्करी के मामले में पुलिस टीम द्वारा काफी गहनता के साथ अलग-अलग बिन्दुओं पर जांच-पड़ताल किया जा रहा है।

News Co-Ordinator and Advisor, Khabar Aajkal Siliguri

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *